English Version  
   
   Visitor Counter
CGMFPFED.ORG

कल्याणकारी योजनाएं-


1. तेन्दू पत्ता व्यापार से प्राप्त लाभ में हिस्सेदारी-


 संग्रहण वर्ष 2007 तक तेन्दू पत्ता के व्यापार से अर्जित लाभ लाभ को निम्नलिखित तरीके से वितरित किया गया हैः


  1. तेन्दू पत्ता संग्रहणकर्ताओं के लिए प्रोत्साहन पारिश्रमिक के रूप में लाभ का 70 प्रतिशत दिया जाता था|
  2. गांव संसाधन विकास के लिए लाभ का 15 प्रतिशत दिया जाता था|
  3. वन और वन उपज के विकास के लिए लाभ का 15 प्रतिशत दिया जाता था|


संग्रहण वर्ष 2008 से तेन्दू पत्ता के व्यापार से अर्जित लाभ को निम्नलिखित तरीके से वितरित किया गया हैः


  1. तेन्दू पत्ता संग्रहणकर्ताओं के लिए प्रोत्साहन पारिश्रमिक के रूप में लाभ का 80 प्रतिशत दिया जाता है।
  2. अराष्ट्रीयकृत लघु वनोपज के संग्रहण, बिक्री, गोदाम और मूल्यों में वृद्धि के लिए लाभ का 15 प्रतिशत दिया जाता है।
  3. समिति के नुकसान की अस्थाई क्षतिपूर्ति के लिए लाभ का 5 प्रतिशत दिया जाता है।

प्राथमिक सहकारी समितियां लाभ की राशि की गणना करने के लिए मूल इकाई है। इससे प्राथमिक सहकारी समितियों के बीच प्रतियोगी भावना आती है ताकि गुणवत्ता नियंत्रण के माध्यम से अधिकतम आय अर्जित किया जा सके। निम्नलिखित तालिका में वितरित प्रोत्साहन पारिश्रमिक के वितरण का विवरण दिया गया हैः


संग्रहण वर्ष प्रोत्साहन पारिश्रमिक की राशि
(रु. करोड़ में)
नकद
चावल

1999+2000

26.07

25.60

2001

28.64

-

2002

39.95

-

2003

33.18

-

2004

25.37

-

2005

24.48

-

2006

31.59

-

2007

117.32

-

2008

65.96

-

2009

92.41

-

2010

135.88

-

2011

156.87

-

2012

310.42

-

2013

101.58

-

2014

72.68

-

2015

88.06

-

2016

275.30

-

2017

749.68
(475.48 Crores Distributed)

-

 

2.   तेन्दू पत्ता संग्राहकों को चरणपादुका का वितरणः-


छत्तीसगढ़ शासन के द्वारा तेन्दू पत्ता संग्रहणकर्ता के प्रत्येक परिवार के एक सदस्य को चरणपादुका (जूता / चप्पल) वितरण करने का निर्णय 2005-06 से लिया है। इसके अंतर्गत केवल उन परिवारों को जो विगत दो वर्षो में कम से कम एक साल में न्यूनतम 500 गड्डी तेन्दू पत्ता तोड़ा है वे चरणपादुका प्राप्त करने के पात्र है। इन जूते को क्रय करने के लिए संघ में राष्ट्रीय स्तर पर ई-निविदा आमंत्रित किया जाता है, जिसमें मानक जूता बनाने वाली कम्पनियां भाग लेती है। विभिन्न वर्षो में चरणपादुका वितरण की जानकारी इस प्रकार हैः-

 

क्र. वर्ष वितरित चरणपादुका
(जोड़ी लाख में)
चरणपादुका की जानकारी खरीदी दर प्रति जोड़ी
(रू. में)
संघ द्वारा शासन से प्राप्त राशि
(रु. करोड़ में)
1. 2006-07 12.53 महिला/पुरूष चरणपादुका 88.00 11.345
2. 2007-08 12.60 महिला/पुरूष चरणपादुका 81.70 पुरूषों के लिए / 76.40 महिलाओं के लिए 13.00
3. 2008-09 12.82 महिला चरणपादुका 63.36 8.00
4. 2009-10 13.22 महिला चरणपादुका 52.98 10.00
5. 2010-11 13.76 पुरूष चरणपादुका 105.00 10.00
6. 2011-12 11.45 महिला चरणपादुका 125.00 18.10
7. 2012-13 11.62 पुरूष चरणपादुका 123.00 15.00
8. 2013-14 12.55 पुरूष चरणपादुका 127.05 15.00
9. 2014-15 12.53 महिला चरणपादुका 135.20 19.50
10. 2015-16 12.32 पुरूष चरणपादुका 142.00 16.10
11. 2016-17 11.57 महिला चरणपादुका 124.43 --
12. 2017-18 12.01 पुरूष चरणपादुका 281.40 --

 

3. तेन्दू पत्ता संग्राहकों के लिए बीमा योजनाएं -


सभी तेन्दू पत्ता संग्रहणकर्ता जिनकी उम्र 18 से लेकर 59 साल के बीच है व जिनके परिवार ने पिछले 2 वर्षो में से कम से कम एक में तेन्दू पत्ते के 500 या इससे अधिक गड्डियाँ जमा किये है वे निम्नलिखित रूप से दर्शाये गये बीमा योजनाओं के रूप से बीमित किए जाते हैः-


(a) आम आदमी बीमा योजना (जन श्री बीमा योजना) -

यह योजना सभी तेन्दू पत्ता संग्रहणकर्ता के परिवार के मुखिया के लिए है। इस योजना का आरंभ 01.05.2007 से हुआ है।


परिवार के मुख्यिा की मृत्यु / विकलांगता के मामले में मनोनीत व्यक्ति को निम्नलिखित लाभ दिये जाते हैः-

   - सामान्य मृत्यु पर रू. 30,000
   - आंशिक विकलांगता पर रू. 37,500
   - दुर्घटना में मृत्यु या स्थायी विकलांगता पर रू. 75,000

एल.आई.सी. द्वारा शिक्षा सहयोग योजना के तहत् आई.टी.आई. सहित 9 वीं और 12 वीं कक्षा के बीच अध्ययन करने वाले परिवार के 2 बच्चों को रू. 1200 वार्षिक छात्रवृत्ति देय होगी।

आम आदमी बीमा योजना का विवरण व पिछले वर्षो के लिए जनश्री बीमा योजना की शिक्षा सहायता योजना के अंतर्गत प्रदान की गई छात्रवृत्ति का ब्योरा निम्नानुसार हैः-

 

 

क्र. वर्ष निराकृत दावा प्रकरणों की संख्या बीमा के रूप में वितरित कुल राशि
(रु. करोड़ में)
छात्रवृत्ति प्राप्त करने वाले छात्रों की संख्या छात्रवृत्ति के रूप में वितरित कुल राशि
(रु. करोड़ में)
1. 2010-11 7390 15.77 67926 8.15
2. 2011-12 7172 15.59 74876 8.99
3. 2012-13 4458 9.69 76803 9.21
4. 2013-14 2139 4.76 74625 8.95
5. 2014-15 3899 12.69 26707 3.20
6. 2015-16 679 2.28 91437 10.97
7. 2016-17
6767 22.13 71929 8.63
 8. 2017-18  4872  16.09  50423  6.05 
9.  2018-19 (As on 30.09.2018  56  0.19   ---  --- 

 

(b) समूह बीमा योजनाः-

संग्रहणकर्ता के लिए पुराना बीमा योजना है। जो 01.05.2007 से परिवार के प्रमुख को छोड़कर 18 से 59 साल के आयु के अन्य सदस्यों को लाभान्वित करती है। वर्तमान में, दिनांक 01.03.2018 के बाद से यह योजना अटल समूह बीमा योजना मे विलय हो गई है|


इस योजना के तहत् तेन्दू पत्ता संग्रहण करने वाले नामांकित व्यक्ति को निम्नलिखित लाभ दिए गए हैः-

   - सामान्य मृत्यु पर रू. 3500
   - आंशिक विकलांगता पर रू. 12,500
   - दुर्घटना में मृत्यु या स्थायी विकलांगता पर रू. 25,000


पिछले वर्षो के लिए समूह बीमा योजना का ब्योरा इस प्रकार हैः-


क्र. वर्ष निराकृत दावा प्रकरणों की संख्या कुल वितरित राशि
(रु. करोड़ में)
1. 2010-11 6430 3.16
2. 2011-12 1870 1.11
3. 2012-13 1602 1.06
4. 2013-14 2134 1.28
5. 2014-15 1026 0.86
6. 2015-16 2240 1.27
7. 2016-17 2936 1.37
8.  2017-18   1381  0.68 
9.  2018-19 (As on 30.09.2018)  18  0.02 

(c) अटल समूह बीमा योजनाः-

यह योजना वर्ष 2011-12 से प्रारंभ हुई है। जिसके अंतर्गत तेन्दू पत्ता संग्रहणकर्ता के परिवार के किसी भी सदस्य की मौत के मामले में इस योजना के तहत् नामांकित व्यक्ति को रु. 6,500 का भुगतान किया जाता है| दिनांक 01.03.2018 के बाद से नामांकित व्यक्ति को राशि रु. 10,000/- भुगतान किया जाता है।

 

पिछले वर्षो के लिए अटल समूह बीमा योजना का ब्योरा इस प्रकार है :-

 

क्र. वर्ष निराकृत दावा प्रकरणों की संख्या कुल वितरित राशि
(रु. करोड़में)
1. 2011-12 397 0.16
2. 2012-13 1345 0.53
3. 2013-14 2052 1.12
4. 2014-15 1009 0.63
5. 2015-16 2221 1.44
6. 2016-17
2866 1.86
7.  2017-18  1381  0.89 
8.  2018-19 (As on 30.09.2018)  28  0.02  

 

4. प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजनाएं -

 

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (पीएमएसबीवाय-स्कीम1-दुर्घटना मृत्यु के लिए) 01 जनवरी 2015 से तेन्दू पत्ता संग्रहणकर्ता व उनके परिवार के सदस्यों के लाभ के लिए भारत सरकार के प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना को इस संगठन में क्रियान्वित किया जा रहा है।

 

  1. पात्रताः- जिस व्यक्ति का बैंक खाता है व जिसकी उम्र 18 से 70 वर्ष है वह इसके लिए पात्र होगा।
  2. प्रीमियमः- प्रति वर्ष रू. 12
  3. भुगतान का प्रकारः- प्रीमियम को सीधे बैंक द्वारा सदस्यता खाते से आॅटो-डेबिट किया जाता है जो प्रीमियम अदा करने का एक मात्र जरिया है।
  4. जोखिम कवरेजः- आकस्मिक मृत्यु और पूर्ण विकलांगता के लिए रू. 2,00,000 व आंशिक विकलांगता के लिए रू. 1,00,000 है।
  5. पात्रताः- वह व्यक्ति जिसका बैंक खाता है व आधार नं. है को बैंक खाते से जोड़कर एक साधारण से फार्म में भरकर 01 जून से पहले बैंक में जमा कर पात्र हो सकता है व नामांकित व्यक्ति का नाम भी फार्म में दिया जाना चाहिए।
  6. जोखिम कवरेज की शर्तेः- एक व्यक्ति को हर साल इस योजना का विकल्प चुनना पड़ता है व इसे जारी रखने के लिए एक दीर्घकालीन विकल्प देना पड़ता है। इसके अंतर्गत उसका खाता बैंक द्वारा हर साल स्वतः डेबिट किया जाता है।
  7. इस योजना को कौन लागू करेगाः- यह योजना सभी सार्वजनिक क्षेत्र के जनरल इंश्योरेंस कंपनियां और अन्य सभी कंपनियों द्वारा पेश की जाएगी जो इस योजना में शामिल होने के लिए तैयार है वे इस उद्देश्य के लिए बैंकों के साथ तालमेल स्थापित कर रहे है।
  8. प्रीमियम का भुगतान धारा 80सी के तहत कर मुक्त होगा व धनराशि की राशि 10/(10डी) के अंतर्गत कर छुट होगी। लेकिन अगर बीमा राशि की रकम एक लाख से अधिक हो तो कुल रकम पर 2 प्रतिशत टी.डी.एस. की दर लागू होगी।

इस योजना के अंतर्गत 12,30,522 तेन्दू पत्ता संग्रहणकताओं के परिवार के सदस्य शामिल है।

 

5. शिक्षा प्रोत्साहन योजनाएं -

 

यह योजना तेन्दू पत्ता संग्राहक के मुखिया के बच्चों के लिए शुरू की गई है जो पिछले दो वर्ष में से कम से कम एक वर्ष में तेन्दू पत्ता के 500 या उससे अधिक गड्डी संग्रहण कर चुके है वे इस योजना के लिए पात्र है।


(a) मेघावी छात्र पुरस्कारः-


यह योजना शिक्षा सत्र 2011-12 से शुरू की गई है। इसके अंतर्गत प्रत्येक प्राथमिक सहकारी समिति में तेन्दू पत्ता संग्रहणकर्ता के परिवार के मुखिया के बच्चे, एक लड़का व एक लड़की जिन्होने सबसे अधिक अंक अर्जित किए है को निम्नलिखित नगद पुरस्कार दिए जाते है।


परीक्षा पुरस्कार राशि (रु. में)

कक्षा 8वीं

2,000/-

कक्षा 10वीं

2,500/-

कक्षा 12वीं

3,000/-

 

पिछले वर्षो में योग्य छात्रों को दिए गए पुरस्कार का ब्योरा इस प्रकार हैः-

 

क्र. वर्ष लाभांवित विद्यार्थियों की संख्या कुल राशि वितरित
(रू. करोड़ में)
1. 2012-13 4310 1.07
2. 2013-14 3905 0.94
3. 2014-15 3931 0.96
4. 2015-16 3925 0.96
5. 2016-17 3251 0.79
6. 2017-18 2479 0.60
7.  2017-18  4098  1.01 

 


 (b)  व्यावसायिक शिक्षा छात्रवृत्तिः-


यह योजना शिक्षा सत्र 2011-12 से प्रारंभ की गई है। इसके अंतर्गत मेडिकल, इंजीनियरिंग, लाॅ, एम.बी.ए. व नर्सिग आदि है। जिसमें 12वी की परीक्षा के बाद पेशेवर शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए हर प्राथमिक सहकारी समिति में एक छात्र जो 12वी में अधिकत्तम अंक प्राप्त किया हो उसे छात्रवृत्ति दी जाती है।


वर्ष राशि (रु. में)

प्रथम वर्ष

10,000/-

द्वितीय वर्ष

5,000/-

तृतीय वर्ष

5,000/-

चतुर्थ वर्ष

5,000/-


यह छात्रवृत्ति 2015-16 से सभी अनुसूचित जनजाति के छात्रों को दी जायेगी। जिसने बस्तर राजस्व विभाग में बीएससी नर्सिग में प्रवेश लिया हो। व्यावसायिक शिक्षा योजना के तहत पिछले वर्षो में छात्रों को प्रदान की गई छात्रवृत्ति का ब्योरा इस प्रकार हैः-


क्र. वर्ष लाभांवित विद्यार्थियों की संख्या कुल राशि वितरित
(रू. करोड़ में)
1. 2011-12 102 0.10
2. 2012-13 914 0.45
3. 2013-14 1120 0.52
4. 2014-15 1256 0.57
5. 2015-16 307 0.25
6. 2016-17 204 0.15
7.  2017-18   347  0.26 

 

(c)  गैर व्यावसायिक शिक्षा छात्रवृत्तिः-

 

वर्ष 2012-13 से प्रारंभ गैर व्यावसायिक स्नातक पाठ्यक्रमों जैसे बी.ए., बी.काॅम., बी.एस.सी. आदि को प्रोत्साहित करने के लिए यह छात्रवृत्ति प्रत्येक प्राथमिक सहकारी समिति में 01 लड़के व 01 लड़की जिसने 12 वीं मेें अधिकतम अंक प्राप्त किया हो उनको छात्रवृत्ति के रूप में दी जाती है।


वर्ष राशि (रु. में)

प्रथम वर्ष

5,000/-

द्वितीय वर्ष

4,000/-

तृतीय वर्ष

3,000/-

 

पिछले वर्षो में गैर व्यावसायिक शिक्षा योजना के तहत छात्रों को प्रदान की गई छात्रवृत्ति का विवरण इस प्रकार हैः-

 

क्र. वर्ष लाभांवित विद्यार्थियों की संख्या कुल राशि वितरित
(रू. करोड़ में)
1. 2012-13 301 0.36
2. 2013-14 310 0.26
3. 2014-15 303 0.24
4. 2015-16 1089 0.49
5. 2016-17 877 0.39
6.  2017-18  1295  0.62 

 

(d)  प्रतिभाशाली छात्रों के लिए शिक्षा प्रोत्साहन योजनाः-

 

यह योजना प्रतिभाशाली छात्रों के लिए वर्ष 2013-14 से शुरू की गई है। इस योजना के तहत सभी लड़के व लड़कियां जो कक्षा 10 वीं व 12 वीं की परीक्षा में 75 प्रतिशत से ज्यादा अंक प्राप्त करते है उन्हें कक्षा 10 वीं में रु. 15,000 एवं कक्षा 12 वीं में रु. 25,000 का पुरस्कार दिया जावेगा।

पिछले वर्षो में प्रतिभाशाली छात्रों के लिए शिक्षा प्रोत्साहन योजना का विवरण इस प्रकार है :-

 

क्र. वर्ष लाभांवित विद्यार्थियों की संख्या कुल राशि वितरित
(रू. करोड़ में)
1. 2013-14 696 1.37
2. 2014-15 743 1.44
3.

2015-16

1030 2.00
4. 2016-17 1561 2.99

इन सभी शैक्षिक योजनाओं का लाभ उठाने के लिए, छात्रों को अपने संबंधित सहकारी समिति के कार्यालय में निर्धारित आवेदन पत्र जमा करना होगा।